जनवरी 08, 2012

प्यार के पंछी

बीते दस दिसंबर को दिल्ली के पटेल नगर से अपने प्रेमी राजू सोनी के साथ फरार हुई साहिना को दिल्ली पुलिस ने सहरसा पुलिस की मदद से सदर थाना क्षेत्र के सराही मुहल्ले से सकुशल बरामद किया था.साहिना के परिजनों ने दिल्ली के पटेल नगर थाना में राजू सोनी के खिलाफ साहिना के अपहरण का मामला दर्ज कराया था.दिल्ली पुलिस पिछले महीने भी सहरसा आकर साहिना की तलाश कर चुकी थी लेकिन तब ये प्रेमी जोड़ा कहीं और पनाह लिए हुए था इसलिए दिल्ली पुलिस खाली हाथ लौट गयी.लेकिन गुप्त सूचना प़र आज दिल्ली पुलिस ने सहरसा पुलिस की मदद से इन दोनों को आखिरकार दबोच ही लिया.हांलांकि दिल्ली में मामला अपहरण का दर्ज हुआ है लेकिन यह मामला प्रेम प्रसंग का निकला.दिल्ली पुलिस ने सहरसा अदालत में साहिना और राजू दोनों को प्रस्तुत किया जहां दोनों के धारा 164 के तहत अलग--अलग बयान दर्ज किये गए.साहिना ने अपने बयान में खुद की मर्जी से घर से भागने और राजू के साथ शादी करने की बात कही.उसका कहना है की वह जियेगी तो राजू के साथ और मरेगी तो राजू के साथ.और ठीक यही बयान राजू ने भी दिए हैं.बताना जरुरी है की राजू साहिना के दिल्ली के पटेल नगर स्थित उसके घर में एक कमरा भाड़े प़र लेकर रहता था.राजू एक फैक्ट्री में काम करता था.दोनों की आँखें चार हुई.प्रेम का ऐसा अगन लगा की दोनों प्रेम के मतवाले लोक--लाज की सारी दीवारें गिराकर फरार हो गए.दोनों ने शादी रचा ली है.साहिना ने तो अपना नाम बदलकर अब सोनम रख लिया है.अदालत में इनदोनों का बयान हो चुका है.पहले लड़की का मेडिकल कराया जाएगा फिर दिल्ली पुलिस उसे लेकर दिल्ली रवाना होगी.
छोड़ेंगे ना हम तेरा साथ वो साथी मरते दम तक.दोनों प्यार के पंछी यही तराने गा रहे हैं.लेकिन ये पुलिसवाले और कानून इन्हें अपनी जद में लेकर आगे ना जाने कौन सा फैसला सुनायेंगे.जब--जब प्यार प़र पहरा लगा है प्यार और भी गहरा,गहरा हुआ है.हम इस प्रेमी जोड़े की सलामती की दुआ अल्लाह से करते हैं. इस लिंक को क्लीक करे http://www.youtube.com/watch?v=VsBQA-ZvblQ

1 टिप्पणी:

  1. humara desh ek azad desh hai.
    yaha har nagrik ko kuch sunvedhanik aadhikar diye gaye hai
    lekin na jane kyu isi desh k nagrik is bat ko nhi samjhte.
    ek taraf to shadi ki mahanta btate hai aur dusri taraf apni marji k khilaf hui apne hi bachcho ki shadi ko kitni aasani se nakar dete hai.

    उत्तर देंहटाएं


THANKS FOR YOURS COMMENTS.

*अपनी बात*

अपनी बात---थोड़ी भावनाओं की तासीर,थोड़ी दिल की रजामंदी और थोड़ी जिस्मानी धधक वाली मुहब्बत कई शाख पर बैठती है ।लेकिन रूहानी मुहब्बत ना केवल एक जगह काबिज और कायम रहती है बल्कि ताउम्र उसी इक शख्सियत के संग कुलाचें भरती है ।