अप्रैल 06, 2011

यह गुलशन कही उजर न जाये


                                                  यह गुलशन कही उजर न  जाये
बुद्धेशवर प्रसाद सिंह
भतखोरा, मधेपुरा , 06-04-2011                     
मत मरो बम
कि यह आशियाना उजर न जाये .

इसी मै कही तेरा भी घर है
 तेरा भी घर कही उजर न जाये .

 बड़ी मुश्किल से सजाया है आशियाना
यह आशियाना कही उजर न जाये..

                                   रहो में बच्चे भी है
                                   ये बच्चे भी कही ख़तम न हो जाये ...

                                   बड़ी मुश्किल से सजाया है ये गुलशन
                                   यह गुलशन कही उजर न  जाये......

1 टिप्पणी:


THANKS FOR YOURS COMMENTS.

*अपनी बात*

अपनी बात---थोड़ी भावनाओं की तासीर,थोड़ी दिल की रजामंदी और थोड़ी जिस्मानी धधक वाली मुहब्बत कई शाख पर बैठती है ।लेकिन रूहानी मुहब्बत ना केवल एक जगह काबिज और कायम रहती है बल्कि ताउम्र उसी इक शख्सियत के संग कुलाचें भरती है ।